how-to-manage-stress-in-civil-services-ias-exam

Civil Service Exam से होने वाले तनाव को कैसे कम करें।

Uncategorized

UPSC द्वारा आयोजित सिविल सर्विस की परीक्षा भारत देश की सबसे कठिन एवं लम्बे समय तक चलने वाली परीक्षाओ मे से एक है। UPSC द्वारा आयोजित सिविल सर्विस की परीक्षा के लिए भारत मे से लगभग 6 लाख उम्मीद्वार अपना ऑनलाइन पंजीकरण कर परीक्षा मे भाग लेते हैं।

इन 6 लाख उम्मीद्वारों मे से मात्र 1000 या इससे भी कम संख्या मे उम्मीद्वार चुने जाते है। इतनी कम संख्या मे उम्मीद्वारों के चुने जाने से, उम्मीद्वारों के दिमाग मे परीक्षा को पास करने के लिए अत्याधिक दबाव बन जाता है जिसके कारण उम्मीद्वारों को निराशा, चिंता एवं मानसिक तनाव से झूझना पड़ता है।


Civil Service Exam से होने वाले तनाव को कैसे कम करें :-

सिविल सर्विस की परीक्षा की तैयारी करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण Tips जो उम्मीद्वारों द्वारा ग्रहण किये जाने चाहिए। वह निम्न है।

सिविल सर्विस की और पहला क़दम  :-

सिविल सर्विस की परीक्षा की तैयारी करने के दौरान अभ्यार्थियों को कई तरह की  मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। गांव एवं छोटे शहरो मे रह रहे अभ्यार्थी परीक्षा की तैयारी सही तरीके से नहीं कर पाते क्योकि वहा शिक्षा का स्तर काफी नीचे होता है। जिसके कारण सिविल सर्विस की परीक्षा की तैयारी अच्छे तरीके से करने के लिए अभ्यार्थियों को अपना घर छोड़ कर बड़ी-बड़ी मेट्रो सिटी की तरफ़ पलायन करना पड़ता है।

शहरो मे, वहां उम्मीद्वार अपने लिए रहने एवं खाने की व्यस्वस्था कर लेता है जिससे उन्हें थोड़ी बहुत आनंद की अनुभूति होती हैं।

कई उम्मीदवार तो ऐसे होते हैं जिनको खाना बनाना तक नहीं आता जिसके कारण वह ज्यादातर वक़्त तक या तो भोजन नहीं करते या फ़िर सड़क किनारो बने हुए ढ़ाबेवालो एवं ठेलो पर निर्भर हो जाते हैं। असुविधाजनक खाना खाने एवं रहने से अभ्यार्थियों को स्वास्थ्य सम्बंधित परेशानिया होने लगती है। 

सिविल सर्विस की तैयारी करने मे होने वाला तनाव एवं परेशानी :-

बहौत से कोचिंग कॉलेज ऐसे होते है जो सिर्फ अपने परिणामो को ज्यादा बेहतर तरीके से प्रदर्शित करने के लिए बहूत से अभ्यार्थियों पर दबाव बनाते है। यह दबाव होता है अभ्यार्थी के पढ़ाई करने के समय मे वृद्धि को लेकर जिसमे अभ्यार्थी को लगभग 15 से 18 घण्टे तक पढ़ाई करनी होती है 24 घंटों मे कैसे भी करके।

अभ्यार्थी इस कोचिंग कॉलेज द्वारा तय सिमा को प्राप्त करने के लिए नींद न आने वाली गोलिया तक खा लेते है एवं लम्बे समय तक सोते नही हैं। सही तरीके से नीदं न लेने एवं नींद न आने वाली दवाओं से उनकी सेहत और शरीर पर बुरा असर पड़ने लगता है जिससे वह पूरी तरीके से थके हुए महसूस करते हैं।

UPSC की सिविल सर्विस की परीक्षा का प्रतिस्पर्धा स्तर काफी ऊँचा है इसमें भाग ले रहे प्रत्येक उमीदवार का एक ही लक्ष्य होता है की कैसे भी करके परीक्षा को पास किया जाए जिसके कारण वे अपने स्वास्थ्य की भी चिंता नहीं करते एवं दिमाग़ पर पड़ने वाले दबाव को भी अनदेखा करते रहते है।

सिविल सर्विस की परीक्षा की तैयारी करने के दौराना अभ्यार्थी कई चीजों से समझौता कर लेता है एवं अपने अंदर कई आदते पैदा कर लेते है जैसे :- अकेले रहना, स्वास्थ्य सम्बंदि परिणाम, कम सोना एवं लम्बे समय तक अध्ययन करना इत्यादी।

अभ्यार्थी अपनी निजी आवश्यकताओं को भी पूरी नहीं कर पाते कोचिंग कॉलेज की किताबें एवं शिक्षा शुल्क के कारण। इस तरह प्रतिस्पर्धा मे सामाजिक एवं साथी अभ्यार्थियों के दबाव से भी शरीर एवं दिमाग़ पर शारीरिक एवं मानसिक रूप से बहुत गहरा प्रभाव पढता है।

कई बार लम्बे समय से चल रही परीक्षा तैयारी के कारण अभ्यार्थी पर बहुत गलत असर पड़ता हैं एवं वह अपने आप को दुनिया मे क्या चल रहा है उससे स्वयं को अलग कर लेता है जिससे वह शारीरिक, मानसिक एवं मनोवैज्ञानिक तोर बिमारियों से पीड़ित हो जाता है।

सिविल सेर्विस की तैयारी करने वाले अभ्यार्थी के लिए कई बार यह रिपोर्ट आती है की वह भावनातमक रूप से बीमार पड़ जाते है, फ़िजूल की चिंता करने लगते है एवं तैयारी करने मे अपना ध्यान केंद्रित नहीं कर पाते।

अभ्यार्थी कई बार इस तरह के लक्षणों से अपने आप को बहार निकलने मे पूरी तरह से विफल हो जाते है और अपने आप मे दिख रहे इन लक्षणों से निपटनें के लिए वह गलत ऱाह पर चल देते है जिसमे वह भारी मात्रा मे शराब, धूम्रपान एवं अन्य नशीले प्रदार्थ का सेवन करने लगते हैं और अपने आप को अनजाने मे और भी ख़तरनाक़ बीमारियों की तरफ़ ले जाता है।


सिविल सर्विस की तैयारी किस तरह से करें :-

परीक्षा की सही तरह से तैयारी करने के लिए अभ्यार्थी को जरूरत है सही क़दम उठाने की जिससे वह अपने आप को इन सभी परेशानियों को बचा सकें।

  • सबसे महत्वपूर्ण पहला कदम जो अभ्यर्थियों को इन सारी परेशानियोँ से दूर रखता है – वह है, सही तरह से भोजन करना एवं सही वक़्त पर खाना खाना ।
  • दूसरा महत्वपूर्ण कदम जो है, वह यह की अपने पढ़ने के स्थान को साफ़ सुथरा रखना और पढ़ने के लिए कुर्सी एवं टेबल का इंतेजाम करना जिससे बैठकर पढ़ने मे आसानी हो। लम्बे समय तक पढ़ाई करने के लिए लाइट की पूर्ण व्यवस्था होनी चाहिये।
  • अपने दिन की शुरुआत सुबह सुबह भ्रमण से करे और पढ़ने के लिए बैठने से पहले अपने आप को स्वस्थ महसूस कराये ।
  • पढ़ाई के दौरान थोड़ा थोड़ा का ब्रेक लेते रहे जिससे आपके शरीर की मांसपेशियाँ एवं दिमाग़ रिलैक्स हो जाये।
  • तनाव को दूर करने के लिए योगा एवं व्यायाम बहूत लाभदायक होता है।
  • कुछ खेल भी खेलना जरुरी है जससे आपके दिमाग़ को रिलैक्स महसूस हो एवं पढ़ाई भी अच्छे से हो जाये।
  • अपने दोस्तों के साथ बैठे, हंसी मज़ाक करे एवं हमेशा हँसते रहे।

सिविल सर्विस परीक्षा की तैयारी अच्छे से करने के लिए एक स्वस्थ शरीर एवं मन की आवश्यक्ता होती है जिसके लिए हमें शांत, रचनात्मक और हँसमुख रहना बहुत आवश्यक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *